बॉक्सिंग: अमित पंघाल चमके, स्ट्रेंडजा मैमोरियल में भारत के 5 पदक पक्के

एशियाई खेलों के स्वर्ण पदक विजेता अमित पंघाल ने सत्र की शानदार शुरुआत करते हुए रविवार (17 फरवरी) को यहां सेमीफाइनल में जगह बनाई, जिससे भारत के बुल्गारिया के सोफिया में चल रहे 70वें स्ट्रेंडजा मैमोरियल मुक्केबाजी टूर्नामेंट में पांच पदक पक्के हो गए। पंघाल ने पुरूषों के 49 किग्रा में उक्रेन के नजर कुरोतचिन को 3-2 से हराकर अंतिम चार में जगह बनाई और अपने लिए पदक पक्का किया।

इस प्रतिष्ठित टूर्नामेंट के तीसरे दिन की समाप्ति पर भारत की चार महिला मुक्केबाजों ने भी पदक पक्के किए। लवलीना बोरगोहीन (69 किग्रा) ने ब्राजील की सोरेज बीटरिज को 5-0 से हराकर महिला मुक्केबाजों में पहला पदक पक्का किया।

जितेन्द्र सिंह राठौड़ ने राष्ट्रीय पैदल चाल प्रतियोगिता में जीता गोल्ड

इसके बाद मंजू रानी ने 48 किग्रा में इटली की बोनाती राबर्टा को 5-0 से हराकर सेमीफाइनल में अपनी जगह पक्की की। पूर्व विश्व जूनियर चैंपियन निकहत जरीन ने उम्मीदों पर खरा उतरते हुए बेलारूस की बुरयाम याना को 5-0 से शिकस्त दी।

महिला मुक्केबाजी में दिन के अंतिम मुकाबले में नीरज ने अमेरिका की एमिलया मूरे को 5-0 से हराकर पदक पक्का किया। सोनिया लाठेर को हालांकि 57 किग्रा में अमेरिका की रोमिरेज यारिसेल से 1-4 से हार झेलनी पड़ी।

FIFA WC 2022: कतर ने दिया भारतीय क्रिकेटरों को फुटबॉल विश्व कप का निमंत्रण

इससे पहले राष्ट्रमंडल खेलों के पदक विजेताओं गौरव सोलंकी (52 किग्रा) और नमन तंवर (91 किग्रा) ने क्वार्टर फाइनल में जगह बनाई। गोल्ड कोस्ट राष्ट्रमंडल खेलों के स्वर्ण पदक विजेता सोलंकी ने अपनी पहले दौर की जीत के 24 घंटे के भीतर दोबारा रिंग में कदम रखा और शनिवार रात हुए कड़े मुकाबले में कजाखस्तान के अनवर मुजापारोव को 3-2 से हराया।

अंतिम आठ के मुकाबले में सोलंकी का सामना उज्बेकिस्तान के फेजोव कुदोनयाजर से होगा। फेजोव ने प्री क्वार्टर फाइनल में खंडित फैसले से स्थानीय दावेदार टिंको बनाबाकोव को हराया।

पिछले साल राष्ट्रमंडल खेलों में कांस्य पदक जीतने वाले 19 साल के तंवर ने पोलैंड के माइकल सोजिन्स्की के खिलाफ 5-0 की आसान जीत दर्ज की। वह अगले दौर में उक्रेन के सेरही होर्सकोव से भिड़ेंगे जिन्होंने प्री क्वार्टर फाइनल में सर्बिया के डार्को स्टेनकोविच को 5-0 से हराया।

पुलवामा हमला: सानिया मिर्जा ने लिखा संदेश, कहा- सैनिक ही हमारे असली हीरो

उलानबटोर कप के स्वर्ण पदक विजेता अंकुश दहिया को हालांकि शिकस्त का सामना करना पड़ा। दहिया को एक मिनट से कुछ अधिक समय में मैसेडोनिया के जेसिन लामा ने हराया। लामा के दबदबे को देखते हुए रैफरी ने बीच में ही मुकाबला रोक दिया।

Top